संपूर्ण हनुमान चालीसा हिंदी में। Hanuman Chalisa Full in Hindi with Lyrics

3
2475
Hanuman Chalisa Full

Hanumanji is an exclusive devotee of Shri Ram, due to this, chanting the name of Shri Ram in front of him also gives him grace. Hanuman ji is such a deity who gets pleased with even a small puja and removes all the troubles of the devotee’s life. The easiest way to celebrate Bajrangbali is to recite Full Hanuman Chalisa daily.

Most people listen to Hanuman Chalisa everyday, in today’s time. There are many people who listen and watch Hanuman Chalisa Video in temples, home or office, but do not recite it. While reading Hanuman Chalisa can help you to fulfill your wishes soon.

Regarding this in the 39th quadrant of Hanuman Chalisa Lyrics, Tulsidas ji says-

“Jo yeh padhe Hanuman Chalisa, Hoy Siddhi Sakhi Gaurisa”

Best Hanuman Chalisa Video Playlist : Watch Here FREE

It is not written in this quadrant that those who speak or hear it, it is clearly written in this quadrant that it needs to be read. Because reading means that one has to read with eyes. Tulsidas ji could also write here that listen Hanuman Chalisa Lyrics, but he insisted on reading it. One has to study himself to attain the grace of God.

Therefore Goswamiji said that Hanuman Chalisa has to be read. Further description has come ‘Hoy Siddhi Sakhi Gaurisa. ‘Hoy siddhi’ means attainment. ‘Sakhi Gaurisa’ means the oath of Shiva and Parvati. The meaning of saying is that if full Hanuman Chalisa is read with reverence and faith, then accomplishment is attained. Hanumanji’s grace is found quickly.

So, recite Full Hanuman Chalisa with us as here we are providing Hanuman Chalisa in Hindi that will allow you to attain the grace of Hanumanji as soon as possible.

Hanuman Chalisa ki Sabse achi video Playlist : Yahan Click Kare

Hanuman Ji
Image Source: in.pinterest.com/pin/766174955327432647

हनुमान चालीसा की सबसे अच्छी वीडियो प्लेलिस्ट : यहाँ क्लिक करे और देखे FREE

दोहा :

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।

बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।

बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

चौपाई :

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।

जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

रामदूत अतुलित बल धामा।

अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी।

कुमति निवार सुमति के संगी।।

कंचन बरन बिराज सुबेसा।

कानन कुंडल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।

कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन।

तेज प्रताप महा जग बन्दन।।

विद्यावान गुनी अति चातुर।

राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।

राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।

बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

भीम रूप धरि असुर संहारे।

रामचंद्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये।

श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।

तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।

अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।

Hanuman Ji
Image Source: elsetge.cat

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।

नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।

कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।

राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।

लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

जुग सहस्र जोजन पर भानू।

लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।

जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

दुर्गम काज जगत के जेते।

सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे।

होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।

तुम रक्षक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै।

तीनों लोक हांक तें कांपै।।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।

महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरै सब पीरा।

जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

संकट तें हनुमान छुड़ावै।

मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा।

तिन के काज सकल तुम साजा।

और मनोरथ जो कोई लावै।

सोइ अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा।

है परसिद्ध जगत उजियारा।।

साधु-संत के तुम रखवारे।

असुर निकंदन राम दुलारे।।

Hanuman Ji
Image Source: wallpaperflare.com

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।

अस बर दीन जानकी माता।।

राम रसायन तुम्हरे पासा।

सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुम्हरे भजन राम को पावै।

जनम-जनम के दुख बिसरावै।।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।

जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई।

हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

संकट कटै मिटै सब पीरा।

जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जै जै जै हनुमान गोसाईं।

कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।

जो सत बार पाठ कर कोई।

छूटहि बंदि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।

होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

तुलसीदास सदा हरि चेरा।

कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।।

दोहा :

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।

राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

Watch Full Hanuman Chalisa Video Here:

Also Check :
– Biggest Hanuman Temples of India | Sabse bade Hanuman Mandir
– Shivratri ki Kahani | Story of Shivratri

Check out our Youtube Channel for Latest Videos & Download Our Mobile App
Youtube Channel : BeautyofSoul Lessons
Mobile App : Android Play Store