दुर्गा कवच मन्त्र॥

49 Views
Purvi Aggarwal
2
Published on 27 Apr 2020 / In Spiritual

⁣देवी या देवी को सभी कृतियों की माता माना जाता है। अलग-अलग श्लोकों या मंत्रों में उनका नाम जपना हमेशा ही उनके भक्तों के लिए वरदान साबित होता है। दुर्गा, पार्वती, काली, प्रतिनगिरा, आदि सभी एकल ऊर्जा की अभिव्यक्तियाँ हैं जो हिंदू धर्मग्रंथों में आदिशक्ति के रूप में जानी जाने वाली सभी कृतियों का स्रोत हैं। देवी कवचम से तात्पर्य उन मंत्रों या मंत्रों से है जो भक्त के आस-पास सुरक्षा का एक समान घेरा बनाते हैं ताकि उसे बुरी आत्माओं से बचाया जा सके।


⁣देवी कवचम का जाप करने का सबसे मूल लाभ यह है कि यह आपके शरीर और आत्मा के लिए एक सुरक्षा कवच बनाता है ताकि आप अंधेरे शक्तियों या बुरी आत्माओं से मुक्त रहें। ब्रह्मांड की मां आंशिक नहीं है और इसलिए यह मत सोचिए कि वह केवल उन लोगों को सुरक्षा प्रदान करती है जो उसकी प्रशंसा कर रहे हैं या उसका नाम ले रहे हैं। कवच या ढाल आपके चारों ओर एक 24/7 पर सक्रिय है लेकिन आप अपने आप को इसके प्रति अधिक ग्रहणशील और सक्रिय बनाने के लिए मंत्रों का जाप करते हैं।



⁣यदि आप खुद को नकारात्मक ऊर्जा से घेर लेते हैं तो आप नकारात्मक दिखेंगे और महसूस करेंगे। इससे दूसरों में यह धारणा पैदा होती है कि आप खुश या सकारात्मक व्यक्ति नहीं हैं। इसलिए, आप दूसरों की उपेक्षा या उपेक्षा करते हैं। इस दुष्चक्र से बाहर निकलने के लिए आपको पवित्र मंत्रों या देवी कवचम का जाप करने की आवश्यकता है और आप स्वयं अपने आसपास प्रचुर मात्रा में सकारात्मक ऊर्जा का अनुभव करेंगे।

हमें एक साथ जपते हैं



Credit/Source:- ⁣https://www.youtube.com/watch?v=rqgvyF9LBHk

Show more
0 Comments sort Sort By

Facebook Comments